आदिवासियों ने सरना धर्म कोड और जनजाति का मिले दर्जा , सालखान मुर्मू   

In राज्य

मीर जियाउर रहमान

कोकराझार , 13 जनवरी (संवाद 365)। असम में रह आदिवासियों की बुधवार को कोकराझार जिला के श्रीरामपुर खेल मैदान में आयोजित एक सभा को संबोधित करते हुए जनता दल यूनाइटेड के झारखंड प्रदेश अध्यक्ष सालखान मुर्मू ने विभिन्न समस्याओं को उठाते हुए सरकार से समाधान की मांग की।

उन्होंने कहा कि आदिवासी (सौताल) समाज सभी क्षेत्रों में पिछड़े हुए हैं। वे प्रकृति की पूजा करते हैं और आदिवासी लोग सरना धर्म का पालन करते आ रहे हैं। लेकिन, आज तक सरकार द्वारा आदिवासियों के धर्म को स्वीकृति नहीं दी गई है। और, न हीं उन्हें आज तक जनजाति का दर्जा मिला।

वहीं जनता दल यूनाइटेड के केंद्रीय सचिव संजय वर्मा ने कहा कि दलित, आदिवासी और मुसलमान लोगों की समस्या को हमारी पार्टी काफी गंभीरता से ले रही है। जिसको लेकर 2021 के चुनाव में हम आदिवासी और पिछड़े मुसलमानों की भलाई के लिए असम में भी अपने उम्मीदवार उतारेंगे।

सभा में जनता दल यूनाइटेड के असम के संयोजक डेविड रंग्पी, आदिवासी सिंगल अभियान के अध्यक्ष पांडू मुर्मू सहित नेता और बड़ी संख्या में कार्यकर्ताओं ने हिस्सा लिया।

 

 

Mobile Sliding Menu

error: Content is protected !!