गुवाहाटी में कोरोना संक्रमण के सामाजिक प्रसार को लेकर स्वास्थ्य मंत्री चिंतित

In राज्य

गुवाहाटी, 13 जून। गुवाहाटी में कोरोना महामारी के सामुदायिक प्रसार को लेकर आशंकाएं बढ़ने लगी हैं। राजधानी के हालात को लेकर राज्य के स्वास्थ्य, वित्त आदि मामलों के मंत्री डॉ हिमंत विश्वशर्मा चिंतित दिखाई दे रहे हैं। गुवाहाटी में कोरोना के सामुदायिक प्रसार की बातों को इससे बल मिल रहा है कि वर्तमान में गुवाहाटी में 25 संक्रमण के ऐसे मामले सामने आए हैं, जिनकी कोई ट्रैवेल हिस्ट्री नहीं है। इसको लेकर ही स्वास्थ्य मंत्री चिंतित दिखाई दे रहे हैं।

शनिवार को राजधानी में राष्ट्रीय स्वास्थ्य अभियान के प्रदेश कार्यालय में आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए स्वास्थ्य मंत्री डॉ विश्वशर्मा ने कहा कि गुवाहाटी में कोरोना रोगियों के मामले थोड़े जटिल हो गए  हैं। गुवाहाटी को लेकर मेरी चिंता और उद्वेग का कारण निश्चित ही है। इसकी मुख्य वजह गुवाहाटी में 25 ऐसे रोगियों की शिनाख्त हुई हैं, जिसको लेकर कोरोना के सामाजिक प्रसार की संभावना को बल मिला है। कारण इन मरीजों की कोई ट्रैवेल हिस्ट्री नहीं है।

उन्होंने संक्रमण के इस प्रसार के संबंध में कहा कि दूसरे राज्यों से अत्यावश्यकीय सामग्री व अन्य सामान लेकर आने वाले ट्रक चालक व खलासियों के संपर्क में आने के कारण यह संक्रमण फैल सकता है। उन्होंने कहा कि ट्रक सामानों की लोडिंग और अनलोडिंग करने के पश्चात 03 से 04 दिनों के अंदर लौट जाते हैं। ऐसे में किसी दुकान के सेल्समैन या ट्रक जहां पर पार्क किया गया होगा उस इलाके में सामाजिक संक्रमण का प्रसार हुआ होगा।

उन्होंने कहा कि सामानों के लोडिंग व अनलोडिंग वाले इलाकों को एकांतवास के रूप में चिह्नित किया जाएगा। ट्रक चालक व खलासियों के स्वैब को संग्रह कर टेस्ट किया जाएगा। साथ ही उन्होंने कहा कि जिन ट्रक चालकों ने सड़क किनारे ढाबों पर भोजन किया है, उन ढाबों पर भी हमारी नजर है। हम उनकी भी जांच करने की योजना बना रहे हैं।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि गुवाहाटी में कोरोना संक्रमण के सामाजिक प्रसार को देखते हुए अगले 15 दिनों के अंदर 50 हजार टेस्ट केवल गुवाहाटी में करने का स्वास्थ्य विभाग ने निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि गुवाहाटी में 12 स्थानों पर स्वैब टेस्ट करने का निर्णय लिया गया है। उन्होंने लोगों से अपना नाम व फोन नंबर शुद्ध तरीके से लिखकर मुहैया कराने की अपील की है।

उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य विभाग अगले 15 दिनों में 50 हजार सैंपलों को संग्रह करेगा। आगामी 15 जुलाई से गुवाहाटी के 12 स्थानों पर सुबह 09 बजे से सैंपल संग्रह किया जाएगा। सैंपल का संग्रह जीएमसीएच, एमएमसीएच, धीरेनपाड़ा प्राथमिकी स्वास्थ्य केंद्र, पांडु प्राथमिकी स्वास्थ्य केंद्र, दिसपुर राजधानी प्रदेश चिकित्सालय, लखरा राजधानी प्रदेश चिकित्सालय, बामुनीमैदान, भेटापारा और उदालबाकरा मिनी पीएचई में किया जाएगा।

बातों-बातों में स्वास्थ्य मंत्री गुवाहाटी में फिर से लॉकडाउन की ओर इशारा किया। उन्होंने कहा कि 50 हजार टेस्ट के बाद स्थिति अधिक जटिल होती है तो गुवाहाटी के लोगों को लॉकडाउन के लिए तैयार रहना होगा। उन्होंने हालात के मद्देनजर कड़े फैसले लेने की स्थिति पैदा होती है तो निश्चित तौर पर लिए जाएंगे।

साथ ही उन्होंने कहा कि गुवाहाटी में 25 से अधिक फ्लाइट नहीं आ सकते हैं। उन्होंने कहा कि आगामी सप्ताह में कोरोना संक्रमितों की संख्या में और इजाफा हो सकता है। कारण केरल से 17 ट्रेन 25 हजार यात्रियों को लेकर राज्य में आने वाली है। केरल से शनिवार को दो ट्रेन गुवाहाटी के लिए रवाना हुई है। वहीं दो ट्रेन बेंगलुरु से आने वाली है।

वहीं गुवाहाटी के उलुबारी श्मशान में कोरोना मरीज के अंतिम संस्कार का स्थानीय लोगों द्वारा शुक्रवरा को विरोध किए जाने के संबंध में उन्होंने कहा कि आग में कोरोना समाप्त हो जाता है। 52 से 53 डिग्री सेल्सियस पर कोरोना जिंदा नहीं रह सकता है। उन्होंने कहा कि अगर किसी को डर है तो श्मशान के लोगों को पीपीई किट पहनने के लिए दें। उन्होंने अंतिम संस्कार में किसी भी तरह से बाधा नहीं देने का आह्वान किया।

वहीं दो गज की दूरी के नियम का उल्लंघन कर विरोध प्रदर्शन और सार्वजनिक कार्यक्रम आयोजित किए जाने का उल्लंघ करते हुए मंत्री डॉ विश्वशर्मा ने कहा कि किस समय स्थिति खराब हो जाएगी, यह कहना कठिन है। उन्होंने कहा कि विरोध की भाषा सरकार निश्चित रूप से सुनेगी, लेकिन दो गज की दूरी के नियम को सभी को मानकर चलना होगा। (हि.स.)

Mobile Sliding Menu

error: Content is protected !!