जनसँख्या समाधान फाउंडेशन ने की जनसँख्या नियंत्रण अभियान शुरू 

In राज्य

दरंग, 13 अगस्त (संवाद 365)। बढ़ती जनसँख्या अपने आप में एक बड़ी समस्या है और बेहताशा जनसँख्या बढ़ोतरी ने मानव सभ्यता के ऊपर संकट ला दिया है। आए दिन बिभिन्न दल संगठन जनसँख्या नियंत्रण कानून पारित करने सम्बंधित आवाज़ उठती रही है। लेकिन आज तक कोई भी सरकार इस दिशा में कोई ठोस कदम नहीं उठाया है।

इसी को लेकर वर्ष 2017 ई में जनसँख्या समाधान फाउंडेशन नाम से एक संस्था का स्थापना की गयी। इस संस्था ने जनसँख्या नियंत्रण को एक मिशन के रूप में लेते हुए कार्य करना शुरु किया और आज इसी संस्था की और से दरंग जिले से मयूख गोस्वामी , श्रवण झा , कैलाश पटवारी , साबिन डेका और मनमोहन डेका ने मंगलदौ सदर पोस्ट ऑफिस के सामने अपनी मांग को बुलंद किया।

फिर अपनी मांगो के समर्थन में ज्ञापन लिख और हस्ताक्षरित कर देश के प्रधानमंत्री , गृहमंत्री , भाजपा अध्यक्ष सहित पांच दफ्तर में पत्र पोस्ट ऑफिस के द्वारा भेजा। उल्लेखनीय है कि फाउंडेशन का मांग है क़ि देश की बेहताशा जनसँख्या बृद्धि को रोकने और नियंत्रण करने का एक मात्र उपाय है सभी के लिए ” हम दो हमारे दो ” का कठोर कानून बनाया जाय ज्ञात हो क़ि देश कोरोना महामारी के बिच संसाधनों में गिरावट और वैश्विक आर्थिक मंडी के बिच गरीब उन्मूलन के लिए जूझ रहा है।

विश्व स्तर के बुनियादी ढांचे के निर्माण के लिए आवश्यक संसाधनो , अत्याधुनिक सैन्यबल , विश्वा स्तर पर प्रतिस्पर्धी कुशल कार्यबल , आधुनिक और सुलभ स्वास्थ्य सुबिधा आदि इस जनसँख्या विस्फ़ोट के कारण अप्रत्याशित रूप से तनावग्रस्त हो जाते है और राष्ट्र निर्माण की प्रक्रिया में जनसांख्यिकीय लाभांश लौटाने के बजाय बढ़ती आवादी देश के कई हिस्सों में बढ़ते सामाजिक तनाव के साथ पतन का कारण बन रही है। इसलिए जनसँख्या नियंत्रण कानून लाना अत्यंत आवश्यक है।

Mobile Sliding Menu

error: Content is protected !!