पिता की अंत्येष्टि में भी शामिल नहीं हो सका मुकेश

In राज्य

गुवाहाटी, 18 अप्रैल, संवाद 365 : सोनापुर जिला चिकित्सालय में सफाईकर्मी के रूप में कार्यरत नरताप, आमगुड़ी निवासी मुकेश इग्ती ने डॉक्टर, नर्स, लैब टेक्नीशियन के साथ सोनापुर जिला चिकित्सालय में इलाजरत मरीजों की सेवा 1 अप्रैल से लेकर 7 अप्रैल तक किया। जिसके बाद वह 14 दिनों के लिए क्वॉरेंटाइन में चला गया। पलटन बजार के एक होटल में क्वॉरेंटाइन में ही था कि उधर उसके पिता पदुम इग्ती का प्रेशर स्टॉक की वजह से 14 अप्रैल की सुबह देहांत हो गया। घटना की जानकारी मुकेश ने स्वास्थ्य विभाग को दी। जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम 14 अप्रैल को सुबह तकरीबन 7:30 बजे होटल से एक वाहन के जरिए सोनापुर जिला चिकित्सालय लेकर आई। जहां मुकेश की स्वास्थ्य परीक्षा करायी गयी और उसके बाद पीपीई किट पहनकर मुकेश 10 बजे सुबह श्मशान घाट में अपने पिता को अंतिम बार दूर से ही देखने के लिए पहुंचा । पिता को अंतिम बार देखने के बाद वह फिर होटल के लिए रवाना हो गया। इस हृदय विदारक घटना को देख श्मशान घाट में मौजूद सभी लोग की आंखें नम हो गई। मुकेश ने यह बातें शनिवार को साझा करते हुए कहा कि मेरे साथ जो हुआ, मैं भगवान से प्रार्थना करता हूं कि इस तरह की घटना किसी अन्य इंसान के साथ न हो। मैं असम के सभी लोगों से हाथ जोड़कर अनुरोध करता हूं कि लॉक डाउन के दौरान सरकार द्वारा बताए नियम का पालन करें।

Mobile Sliding Menu

error: Content is protected !!