भीख मांगते बच्‍चों का भविष्‍य बनाने के लिए सत्रह हजार कि.मी. की पदयात्रा पर युवा इंजीनियर आशीष शर्मा

In राज्य, राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय

गुवाहाटी 26 जुलाई संवाद 365 : युवा इंजीनियर आशीष शर्मा ने बाल इन दिनों अभिषेक मकसद को लेकर सत्रह हजार किलोमीटर पदयात्रा पर है। आशीष ने भिक्षावृत्ति रोकने के लिए एक अनोखे अभियान की शुरुआत किया है। दिल्‍ली समयपुर बादली के रहने वाले आशीष का उद्देश्‍य देश से बाल भिक्षावृत्ति को खत्‍म करन करने की मंशा लेकर इन दिनों गुवाहाटी पहुंचे हुए हैं। आशीष का मानना है कि  देश से बाल भिक्षावृत्ति खत्म होगी तभी जाकर देश का हर बच्चा स्कूल जा सके। उन्होंने कहा कि सड़कों पर भीख मांगते बच्‍चों को लगभग हम रोज ही देखते हैं। कई लोग उन्‍हें कुछ पैसे देते हैं तो कुछ लोग ऐसा न करने की नसीहत देकर चलते बनते हैं। वहीं, कुछ लोग उनकी इस हालत के लिए सरकार को कोसते हैं। जबकि सच्‍चाई यह है कि लगभग हर प्रदेश में भिक्षावृत्ति को रोकने के लिए सरकारी स्‍तर पर एक विभाग हैं और  कई योजनाएं भी। इतना ही नहीं ज्‍यादातर शहरों में भिक्षुक गृह भी हैं। लेकिन उनमें से अधिकतर खाली ही हैं। ऐसे में दिल्‍ली के युवा इंजीनियर आशीष शर्मा ने बाल भिक्षावृत्ति रोकने के लिए एक अनोखे अभियान की शुरुआत की है। आशीष पूरे देश में 17 हजार किलोमीटर की पदयात्रा कर इसे रोकने के लिए लोगों को जागरूक कर रहे हैं। आशीष ने कहा कि 68 % अपराध यही बच्चे करते है और यही कारण है पुलिस की ड्यूटी मुस्किल होती जा रही है । 2015 मे आशीष ने 9 ऐसे बच्चो को स्कूल को स्कूल मे दाखिला दिलाया जो भिख मांगते थे । 9 बच्चों में से कुछ बच्चे नशा जैसे गतिविधियों मे लिप्त थे। लेकिन हर बच्चे को पकड़ कर ऐसे स्कूल मे नही भेजा जा सकता था तो आशीष ने यह मुद्दा ख्त्म करने की सोची। युवा पीढ़ी को जोड़ने के मकसद से वह पैदल यात्रा पर निकले हुए है ।आशीष के मुताबिक, वे कक्षा छह से ही वृद्धाश्रम जा रहे हैै । जल्‍द ही उन्हे  अहसास हो गया कि इस समस्‍या का जड़ बच्‍चों में ही है। अगर बच्‍चे ही खुश नहीं होंगे तो बुजुर्ग कैसे सुखी रह सकेंगे। सड़कों पर हजारों बच्‍चे भीख मांगते दिख जाते हैं, लेकिन कोई उनके लिए कुछ नहीं करता है। मैं उनके लिए कुछ करना चाहता था, लेकिन मुझे पता था कि व्‍यक्तिगत रूप से 50 से 100 बच्‍चों से मिल सकता था। इसलिए मैंने अपने लक्ष्‍य को पाने के लिए पूरी युवा पीढ़ी को जोड़ने की शुरुआत की है । मुझे अब ‘लोगों की भावनाओं को जगाना है सभी देश से बाल भिक्षावृत्ति खत्म होगी।मैकेनिकल इंजीनियर आशीष ने देश को बाल भिक्षावृति से मुक्त करने के लिए अपनी नौकरी तक छोड़ दी और अपने लक्ष्य को पूरा करने के लिए वे बीती 22 अगस्‍त 2017 से इसे पूरे करने के लिए पदयात्रा पर निकले हुए हैं। दुआएं फाउंडेशन के तहत 17 हजार किमी. की पदयात्रा को आशीष ने उनमुक्‍त इण्डिया का नाम दिया है। इस अभियान के तहत देश के 29 राज्‍यों व 7 केंद्र शासित राज्‍यों के 4900 गांवों में बाल भिक्षावृत्ति को रोकने के लिए जागरूक किया जाएगा। उनका कहना है कि मैं लोगों को यह बताना चाहता हूं कि भीख मांगते बच्‍चों को गाली न दें और न भिख और शोषण करने के बजाय उन्‍हें समाज की मुख्‍यधारा में शामिल करने में मदद करें आशीष कहते हैं, कि मैं लोगों की भावनाओं को जगाना चाहता हूं, मुझे लगता है कि जब उनको पता चलेगा कि कोई 17 हजार किलोमीटर सिर्फ बाल भिक्षावृत्ति रोकने के लिए पैदल चल रहा है तो उसका असर जरूर होगा और असर हो रहा है देश भर से आज युवा साथ खड़ा है। आशीष इसके लिए टीचर्स व अधिकारियों से भी ले रहे सहयोग।अपने इस अभियान के तहत आशीष स्‍कूल-कॉलेजों के प्रिंसिपल और अधिकारियों से भी मिलकर जागरूकता फैलाने के लिए सहयोग मांग रहे हैं। बाल  भिक्षुकों को समाज में शामिल कर एक बेहतर भविष्‍य देने की कवायद में उनको  सहयोग भी मिल रहा है। वह आगामी 14 जून 2019 को उनमुक्‍त दिवस मनाने की तैयारी कर रहे हैं। जिसमे कोशिश है 10 लाख लोगो को एक साथ जोड़ने की। वह चाहते हैं कि इस आयोजन में लोग भीख मांगने वाले बच्‍चों की बेहतर शिक्षा दिलाने व एक आदर्श समाज बनाने की शपथ लें। आशीष एक मोबाइल एप भी डेवलप कर रहे हैं, जिसकी मदद से पांच किलोमीटर के दायरे में किसी भी बाल भिक्षुक दिखने पर उसकी जानकारी अपलोड की जाए ताकि आसपास के पुलिस अधिकारी व अनाथाश्रम उस बच्‍चे की मदद कर सकें। अभी तक आशीष हिमाचल , पंजाब , हरयाणा, राजस्थान, गोआ , दमन , सिलवासा , महाराष्ट्र , मध्य प्रदेश , उत्तराखंड , उत्तर प्रदेश , बिहार , सिक्किम का सफर तय कर चुके है ,जहाँ 2 करोड़ से अधिक बच्चे भिख न देने की स्पथ दिला चुके है । आशीष 7884 की.मी की पदयात्रा करते हुए गुवाहाटी पहुचे हुए हैं ।

Mobile Sliding Menu

error: Content is protected !!