लॉक डाउन के दौरान एक महिला का जीवन संग्राम

In राज्य

गुवाहाटी, 30 अप्रैल (संवाद 365)। लॉक डाउन के दौरान पिछले 15 दिनों से लगातार साइकिल चलाकर मंजू राय नामक महिला अस्पताल पहुंचती है और ड्यूटी खत्म करने के बाद फिर साइकिल लेकर अपने घर लौटती है। मंजू राय जोराबाट स्थित नॉर्थ ईस्ट कैंसर हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर में बतौर सफाई कर्मी काम करती है। लॉक डाउन की वजह से मंजू को काफी मुसीबतों का सामना करना पड़ रहा है। दूसरे चरण के लॉक डाउन के दौरान पति को घर में ही बैठना पड़ रहा है, क्योंकि पति दैनिक मजदूरी करता है और फिलहाल लॉक डाउन के दौरान उसे कोई काम नहीं मिल पा रहा है। मंजू हर रोज सोनापुर के कमारकुची स्थित अपने किराए के मकान से साइकिल लेकर अस्पताल निकलती है। ड्यूटी कर फ़िर 5 किलोमीटर साइकिल चलाकर घर पहुंचती है। मंजू ने कहा कि मेरे पास राशन कार्ड नहीं है। मैं किराए के मकान पर रहती हूं। आज तक मुझे सरकार की ओर से लॉक डाउन के दौरान किसी भी प्रकार की सहायता नहीं मिली है। मैं हर रोज अपने परिवार की खातिर साइकिल चलाकर ड्यूटी जाती हूं।

Mobile Sliding Menu

error: Content is protected !!