सत्यनारायण ठाकुरबाड़ी में मनाई गई शरद पूर्णिमा

In कला-संस्कृति

डिंपल शर्मा

नगांव 31 अक्टूबर (संवाद 365)। शरद पूर्णिमा पर नगांववासियों ने उत्साह और उल्लास के साथ व्रत रखकर माता लक्ष्मी, शिव-पार्वती और कार्तिकेय की पूजा की। शहर की श्री सत्यनारायण ठाकुरबाड़ी में इस अवसर पर कोरोना संक्रमण को लेकर दिए गए सरकारी दिशा निर्देश के बीच धार्मिक आयोजन आयोजित किए गए और पूरी तरह से सामाजिक दूरी का पालन किया गया। इस दौरान एक दिवसीय धार्मिक आयोजन की श्रंखला में दोपहर से ही श्री सत्यनारायण ठाकुरबाड़ी में भक्तों का आना जाना लगा रहा और बड़े भक्ति भाव से पूजा अर्चना की गई।

इस बीच दिव्यज्योत का प्रज्वलन किया गया और शाम को आरती के पश्चात भक्तों के बीच खीर जलेबी कंदमूल फल का प्रसाद वितरण किया गया। इस आयोजन को सफल बनाने में समाजसेवी जगदीश धुत, महावीर प्रसाद किल्ला के साथ सुरेश कुमार शर्मा उर्फ सूर्या का योगदान विशेष रूप से सराहनीय रहा। ठाकुरबाड़ी में पूजा अर्चना का कार्य पंडित विजय कुमार दाधीच और पंडित प्रहलाद दाधीच द्वारा संपन्न करवाया गया।

ठाकुरबाड़ी में इस दौरान समाज के गणमान्य व्यक्तियों के उपस्थिति सराहनीय रही।मान्यता है कि शरद पूर्णिमा की रात चंद्रमा अपनी 16 कलाओं से परिपूर्ण होता है। चंद्रमा की किरणों से अमृत की वर्षा होती है। इसीलिए इस दिन खीर बनाकर रातभर चंद्रमा की रोशनी में रखने का विधान है। धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक इस खीर को ग्रहण करने से कई रोगों से मुक्ति मिलती है। इसके अलावा शहर के विभिन्न दुर्गा पूजा पंडालों में भी शरद पूर्णिमा के अवसर पर महालक्ष्मी की पूजा की गई और नई खेती को लेकर महालक्ष्मी के चरणों में धान का अर्पण किया गया। सभी पूजा पंडालों में कोरोना संक्रमण को लेकर राज्य सरकार द्वारा दिए गए एस ओ पी का पालन किया गया।

Mobile Sliding Menu

error: Content is protected !!